Gyanvapi mosque case – हिंदू पक्ष के हक में फैसला ,अदालत ने कहा – श्रृंगार गौरी से जुड़ी याचिका सुनवाई योग्य

Gyanvapi Mosque – Big win for Hindu side ,Varanasi court dismisses masjid committee’s plea

ज्ञानवापी श्रृंगार गौरी केस में वाराणसी की जिला अदालत ने सोमवार को अपना फैसला सुना दिया. अदालत ने कहा है कि श्रृंगार गौरी से जुड़ी याचिका सुनवाई योग्य है. हिंदू पक्ष के वकील विष्णु जैन और हरिशंकर जैन ने बताया कि कोर्ट ने यह फैसला सबूतों के आधार पर दिया है. अब श्रृंगार गौरी की रोजाना पूजा को लेकर दायर की गई याचिका पर रोजाना सुनवाई होगी. हिंदू पक्ष के वकील हरिशंकर जैन ने फैसले के बारे में बताते हुए दावा किया कि ज्ञानवापी पर प्लेसेज ऑफ वरशिप एक्ट (places of worship act 1991) लागू नहीं होता है.

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर वाराणसी की जिला अदालत (Varanasi District court) को यह फैसला करना था कि श्रृंगार गौरी नियमित दर्शन-पूजन मामले में आगे सुनवाई की जा सकती है या नहीं. जिला जज डॉ. अजय कृष्ण विश्वेश की अदालत में सोमवार को इस केस में फैसला सुना दिया. हिंदू पक्ष के वकील हरिशंकर जैन कोर्ट ने बताया कि हिंदू पक्ष की दलील को मानते हुए लीगल टीम को श्रृंगार गौरी के निरीक्षण की अनुमति दे दी गई है. साथ ही कोर्ट ने माना है कि ज्ञानवापी मामले में पूजास्थल का धार्मिक कैरेक्टर बदलने की गुंजाइश है. 27 पन्नों के फैसले में जिला जज डॉ. अजय कृष्ण विश्वेश की अदालत ने बताया कि अब तक वादी (हिंदू) पक्ष की ओर से पेश किए गए सबूत के आधार पर केस को सुनवाई योग्य माना गया है. सोमवार को दोपहर 2 बजे से शुरू सुनवाई में अदालत ने अपना फैसला सुनाया और 22 सितंबर को सुनवाई की अगली तारीख नियत की है.

कोर्ट ने मुस्लिम पक्ष की ओर से सुनवाई रोकने की याचिका को खारिज कर दिया है. इस पर मुस्लिम पक्ष के वकील मेराजुद्दीन का कहना है कि वो कोर्ट के आदेश से संतुष्ट नहीं है. इसलिए वो हाईकोर्ट की शरण में जाएंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *