Democracy -भारतीय लोकतंत्र की मजबूती विदेशी शक्‍तियों के लिए ईर्ष्या का विषय है – आजादी के अमृत महोत्सव के मोके पर डेमोक्रेसी डायलाग ( हम भारत के लोग ) का आयोजन

सिटी लाइव ने मंगलमप्लस मेडिसिटी में आयोजित किया ‘डेमोक्रेसी डायलॉग’ इस दौरान भारत के 75 वर्ष की यात्रा पर लोकतंत्र की स्थिति पर विचार गोष्ठी

CITYLIVE – मंगलम प्‍लस मेडिसिटी हॉस्पिटल के सभागार में आजादी के अमृत महोत्सव के मौके पर सिटी लाइव की ओर से डेमोक्रेसी डायलॉग का आयोजन किया गया। इसमें वित्‍त आयोग की पूर्व अध्‍यक्ष डॉ ज्योति किरण, वरिष्‍ठ पत्रकार श्रीपाल शक्तावत, सरल बिहारी मंदिर के महंत दीपक वल्‍लभ गोस्‍वामी, कांग्रेसी नेता किशोर शर्मा, शिक्षाविद जितेंद्र सारस्वत और मीडिया परसन संजय गौड़ व् वरिष्ठ कलागुरु डॉ भवानी शंकर ने भाग लिया।

अर्थतंत्र के विकास के बिना लोकतंत्र का विकास संभव नहीं – डॉ ज्योति किरण

डॉ ज्योति किरण ने कहा कि अर्थतंत्र के विकास के बिना लोकतंत्र का विकास संभव नहीं है, अच्छी बात यह है कि भारत में राजनीतिक लोकतंत्र के साथ आर्थिक लोकतंत्र का उदय हो रहा है। मंगलम प्लस मेडिसिटी की डायरेक्‍टर नेहा गुप्‍ता ने कहा कि भारतीय लोगों की अनुवांशिकता में उद्यमिता है, पूरी दुनिया में भारतीय युवाओं ने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है, लेकिन हमारे देश में युवाओं के लिए राजनीतिक अवसर सीमित हैं। यहां केवल 30 से 40 प्रतिशत वोट हासिल कर लोग लोकसभा और विधानसभा में पहुंच जाते हैं। यानी 60 से 70 प्रतिशत लोगों ने तो उन्‍हें चुना ही नहीं। इसलिए देश में शत- प्रतिशत मतदान अनिवार्य होना चाहिए।

हम भारत के लोग – DEMOCRACY DIALOGUES “The essence and scope of democracy”

 

भारतीय लोकतंत्र की मजबूती विदेशी शक्‍तियों के लिए ईर्ष्या का विषय है

श्रीपाल शक्तावत ने कहा कि भारतीय लोकतंत्र की मजबूती विदेशी शक्‍तियों के लिए ईर्ष्या का विषय है, इसलिए कई वो विदेशी एजेंसीज भारतीय लोकतंत्र पर सवाल उठाती रहती हैं ,लेकिन हकीकत में भारतीयता की साख और धाक के सामने आज अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍तर पर सभी नतमस्तक हैं। वही किशोर शर्मा ने भारत की लोकतंत्र की मजबूती को हमारी पंचायती व्यवस्था से जोड़ा , इस मौके पर संजय गौड़ ने वर्तमान लोकतंत्र पर राजनैतिक व्यवस्था पर कटाक्ष भी किये।

May be an image of 2 people, people standing and text

कार्यक्रम के सूत्रधार मीडियकर्मी सत्यजीत तालुकदार के अनुसार डेमोक्रेसी डायलाग (हम भारत के लोग ) का उद्देश्य इस मंच से लोकतंत्र में लोक की बात लोक के साथ करने के प्रयास किया जायेगा, जिसमे समाज के सभी वर्गों को इस लोकतंत्र में उचित प्लेटफार्म मिल सके । इस अवसर पर कई समाजसेवी, बुद्धिजीवी व् छात्रों ने अपने प्रश्न भी मंचासीन अतिथियों के सामने रखे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *